logo
Placement Officer, University Placement Cell
Notification for Online Recruitment Drive – Extramarks Education Pvt. Ltd.
 
निदेशक, प्रवेश परीक्षा 2020, इलाहाबाद विश्वविद्यालय इलाहाबादः

Tentative Dates for Entrance Examination-2020

Exam Date Morning Session
OMR Based-09:30 AM-11:30 AM
CBT Based-09:30 AM-11:40 AM
Evening Session
OMR Based- 02:00 PM - 04:00PM
CBT Based - 02:00 PM - 04:10PM
21 September, 2020
Monday
B.Sc. Maths & B.Sc. Bio
(Online & Offline)
B.Com. & B.Sc. Home Science
(Online & Offline)
22 September, 2020
Tuesday
B.A./ B.F.A./B.P.A.
(Online & Offline)
B.A. LL.B.
(Online & Offline)
28 September, 2020
Monday
LL.B. 3 year
(Online & Offline)
__________
29 September, 2020
Tuesday
PGAT-I
(Online & Offline)
LL.M. & M.Com.
(Online & Offline)
30 September, 2020 to  05 October 2020 PGAT-II & IPS
(Online)
 
 
Prof. R. R. Tewari, Vice-Chancellor, AU
I hope all of you are keeping good health and are there you’re your family members to support them and mentally engage with them, which is very important in current times. I am sure that, to keep yourself safe, all of you are following the three mantras which has become the norm of these days – maintaining a physical distance from anyone; wear a face mask and keep washing/sanitizing your hands as often as you can.
The current pandemic COVID-19 situation has forced me to meet you through one of the vital organs of democracy – the media. We all are facing an unprecedented situation in this academic year which we had never imagined. An invisible little entity kept us locked down for days together and it has disrupted the entire campus environment.
I always say that any university has five vital components– Teachers; Non-teaching employees; administration; Students and the Alumni and the last two components are the most important component for the growth of the institution and the nation. The student needs to understand well that the University belongs to them and it is a temple of learning. The past students have to come forward to provide their most valuable suggestions for the betterment of their alma mater. They need to somehow connect with the present students to take them forward.
I know all of you are good students who came to the University from Prayagraj and many other places of the country to address your future – to learn something so that you may become a better citizen and can contribute towards the development of Society and the nation in your own way. I am also aware that the University could not meet your aspirations because of many problems that were there before the University. I wanted to meet all of you individually to know and understand you, to get the feedback personally from you, so that things may be improved in future. In fact, I had prepared a schedule with the help of Dean, Student Welfare and had visited three University hostels after which the COVID struck and everything went haywire.
There has to be a proper cohesion between all important components: students, parents, teachers and administration for smooth functioning of the institution. There has to be a transparent mechanism else things will never improve. Recently, I read a very welcome statement from the Hon’ble Chief Rector of the University, Governor of Uttar Pradesh, Her Excellency Smt. Anandiben Patel wherein she exhorted the Vice Chancellors of State Universities to have a student member in every vital committee of the University. This I am maintaining from the very first day I got the opportunity of serving my alma mater in the capacity of the Vice Chancellor. I always say that, except for the confidential section, there has to be involvement of good student(s) in the committees of the University, with good underlined.
To the students I always say that you should be guided by your conscience not by the so called student leaders. You have to come out with constructive criticism and positive suggestions to take your institution ahead. To the student leaders I always say that your views may be different because of your affiliation with different political organizations, but within the campus, when you say you are a student leader, I always expect you to keep all those biases out of the University campus and expect you only to see that Institution addresses the future of the students who have joined this university to address their career.
The student leaders have a very important role to play in nation building. They need to understand their role in the University. They need to understand what is good for the students. They need to ensure peace in the campus so that teaching goes on unhindered. They need to ensure no untoward incidence happens in the University premises, including its hostels, giving a chance to district administration in getting involved in the University matters. For example, when it is said that the students should not be promoted but somehow their examination should be conducted, I expect the student leaders to come forward and support the institution. I know that no good student likes the word promotion. They want to prove themselves. No good student will like to go with a mark-sheet or degree stamped as promoted. We all know that it is a challenge to conduct the examination in the current scenario, but we also know where there is a well, there is a way. In the past, with the help of one and all, we have surmounted many serious problems and I am sure, we will surmount this as well. Why do the student leaders feel and think that they only think about the well being of the students? It is the responsibility of all of us to address that. I believe that we can conduct the examination in very easily in piece meal, say law student’s first, then professional courses and so on taking all the precautionary measures at every stage so that nothing untoward happens. I am sure we can plan and do it. We know that everyone in the world, including the student’s of the University, is disturbed in this confusion period. Keeping that in mind only, the examination committee of the University has decided to cut down the examination time; the number of questions to be answered and providing the student another chance to reappear in any paper in which he has not done well. We all are very alert about the safety of the students.
I am very thankful to the teaching faculty of the University who suddenly switched to the online mode to finish off the remaining portion of the syllabi in the previous semester when the pandemic suddenly struck the world. Those who are critics of the online education, those who term it as disconnected education, they also per force switched to this mode of teaching when no other option was available. But tell me, has the class-room teaching not become disconnected these days? We all teachers need to attract the student to the classroom and that will happen if we not only are talking in the classroom but doing something worthwhile to engage the students and keeping them mentally alert in the classroom. We all believe that face-to-face teaching is the best way of addressing the students as there we able to exchange the emotions besides the subject matter. But is there any other option currently available? To those who say online teaching should not be done, I will like to ask that should the University be closed if face-to-face teaching is just not possible ? The answer is no. I know that there are problems in getting connected with the students online. We all have faced it like poor bandwidth, digital divide and all. But there are solutions as well. Looking at the problems, we have developed the University Learning Portal on which Department-wise lectures/reading materials of the faculty members were made available to the students, which they could open at their leisure and study. This pandemic has acted as a catalyst and now we are well geared up. Faculty members have also tried to explore other platforms for online teaching which they had not used earlier. We are going to have a video studio in the University where we will record good quality lectures of the faculty members to be made available not only on the University portal but other learning portals as well. With that in mind, faculty members are coming forward to provide the learning material of the next semester teaching by the end of July 2020 which then shall be uploaded on the University Learning portal so that when online classes formally start from August 17th 2020 the students are well geared up to engage themselves with the teacher concerned. I see it as a positive side of online teaching.
An Alumni portal has been created and linked with the main website of the University so that they may link up to provide their valuable suggestions for the betterment of their alma mater. In this digital age, the University is also visible on all the social media sites such as Facebook, YouTube, Instagram and Twitter. Very soon, the University will have a Work From Home environment in the University and thereby making the University a paperless office. The beta version of Work From Home environment has been launched and very soon it will be in place. You will be very happy to note that all these solutions have been worked out by students like you.
With the kind help of MHRD, a new Centre of Vocational Studies and Skill Development has been created to provide skilled manpower to the country- a little step towards Atmanirbhar bharat. Initially it is going to provide technicians in the area of networking; storage and computer peripherals to the country. A B.Voc. program in Software Development has been launched to produce professionals for local computing applications, aiming in the direction of Self-reliant Bharat.
We all have to realize besides our rights, our duties as well and have to make a focused and concerted effort to realize that goal that we set. Once we do that, I am very sure, we shall not only be able to achieve our goal but shall go far beyond that. We are not sure when post-covid era will begin but it is certain that the post-covid era will be very different from pre-covid era. We will operate with changed rules in all the fields. Please stay safe. I request all of you to shed off the fear of pandemic and keep doing your work as work is worship. I request you to follow all the guidelines suggested by the GoI to prevent this pandemic – always maintain suggested physical distance from others, make face mask/face shield a part of your dress code at least for the next six months, keep sanitizing/ washing your hands as often you can and load Arogya Setu App on your phone to alert yourself about your surroundings.
Wish you all, all the best,
 
मेरे प्यारे विद्यार्थियों!
मुझे आशा है कि आप सभी अपने परिवार जनों के साथ शारीरिक एवं मानसिक रूप से स्वस्थ होंगे। आज इस संकट की घड़ी में यह आवश्यक हो गया है कि हम सभी अपना और दूसरों का भी ख्याल रखें। विश्वास है कि अपने को सुरक्षित रखने के लिए आप उन सभी तीन उपायों का प्रयोग कर रहे होंगे जो सरकार ने हमें सुझाये हैं- दूसरों से दूरी बनाकर रखना, फेस मास्क हमेशा पहनना और अपने हाथों को बार-बार धुलना।
इस कोविड-19 महामारी ने हमें बाध्य कर दिया कि मैं लोकतंत्र के प्रमुख प्रहरी मीडिया के माध्यम से आप सबसे जुडूँ। इस अकादमिक सत्र में हम सभी एक ऐसी अभूतपूर्व स्थिति से गुजर रहे हैं, जिसकी हमने कभी कल्पना भी नहीं की थी। एक अज्ञात, अदृश्य, अदना वायरस ने हम सभी को घरों में कैद कर दिया और विश्वविद्यालय परिसर की सभी गतिविधियों को बाधित कर दिया।
मैं हमेशा कहता हूँ कि किसी भी विश्वविद्यालय के पाँच प्रमुख अंग हैं- शिक्षक, शिक्षणेत्तर कर्मचारी, प्रशासनिक अधिकारी, छात्र एवं पुरा छात्र, जिसमें से आखिरी दो अंग किसी भी संस्था अथवा देश की प्रगति के लिए सबसे महत्वपूर्ण हैं। छात्रों को यह समझना है कि विश्वविद्यालय शिक्षा का मंदिर है और यह उनका है। पुरा छात्रों को विश्वविद्यालय से जुड़कर उसकी बेहतरी के लिए अपने महत्वपूर्ण सुझावों को साझा करते हुए आज के छात्रों को बेहतर बनाने हेतु उनसे जुड़ना भी है।
मैं जानता हूँ कि आप सभी अच्छे छात्र हैं, जो प्रयागराज अथवा देश के अन्य कोनों से यहाँ अपना भविष्य बनाने हेतु, एक सपना संजोकर आये हैं ताकि आप एक बेहतर नागरिक बनकर निकलें और समाज एवं देश की प्रगति में अपना यथोचित योगदान दें। मैं यह भी जानता हूँ कि आप जो सपना लेकर विश्वविद्यालय आये, कई कारणों की वजह से, वर्तमान समय में विश्वविद्यालय उनको पूरा नहीं कर पाया। मैं आप सभी से व्यक्तिगत रूप से मुलाकात कर आपको समझना चाहता था और आपका फीडबैक लेना चाहता था ताकि भविष्य में हम उन कमियों को पूरा कर आपके सपनों को साकार कर पायें। मैंने विश्वविद्यालय के अधिष्ठाता, छात्र कल्याण के सहयोग से एक योजना बनाकर इसकी शुरूआत भी की थी परन्तु अचानक आयी इस कोरोना महामारी ने हमारी योजना को तहस-नहस कर दिया।
विश्वविद्यालय की बढ़ोत्तरी के लिए छात्रों, अभिभावकों, शिक्षकों एवं प्रशासन के बीच एक सामंजस्य बहुत आवश्यक है। संस्था की बढ़ोत्तरी के लिए आवश्यक है कि एक पारदर्शी व्यवस्था स्थापित हो, जिसमें छात्रों की हरसंभव सहभागिता हो। कुछ दिनों पूर्व हमने विश्वविद्यालय की माननीय रेक्टर व उत्तर प्रदेश की राज्यपाल माननीय श्रीमती आनन्दीबेन पटेल जी का एक अच्छा सुझाव पढ़ा, जहाँ उन्होंने राज्य विश्वविद्यालय के कुलपतियों से यह अपेक्षा की कि विश्वविद्यालय की हर प्रमुख समिति में छात्रों की सहभागिता हो। मैंने जब से विश्वविद्यालय का कार्यभार संभाला, हमेशा यह महसूस किया कि गोपनीय कार्यों को छोड़कर हर जगह अच्छे छात्रों की किसी न किसी रूप में सहभागिता जरूरी है। यहाँ मैं अच्छे पर जोर देना चाहूँगा क्योंकि कोई व्यवस्था होनी चाहिए जिससे छात्रों का इन समितियों के लिए उचित चयन हो सके।
मैं छात्रों से हमेशा कहता हूँ कि उनको अपने विवेक के अनुसार कार्य करना चाहिए न कि किसी छात्र नेता के बहकावे पर। छात्रों से यह अपेक्षित है कि वे रचनात्मक आलोचना करें एवं विश्वविद्यालय की बेहतरी के लिए सही सुझाव संस्था के सामने रखें। छात्र नेताओं से मैंने हमेशा कहा है कि विभिन्न राजनीतिक दलों से जुड़ाव के कारण उनके विचार भिन्न होंगे और होने भी चाहिए परन्तु विश्वविद्यालय परिसर के अन्दर यदि वे अपने को छात्र नेता कहते हैं तो उनसे सदैव अपेक्षित है कि वे अपने राजनीतिक जुड़ावों को विश्वविद्यालय परिसर से बाहर रखें और देखें कि किस प्रकार विश्वविद्यालय अपनी कमियों को दूर कर छात्रों का बेहतर भविष्य बना सके।
छात्र नेताओं की देश निर्माण में अग्रणी भूमिका रही है और रहेगी परन्तु विश्वविद्यालय के अन्दर उनको अपनी भूमिका समझनी होगी। उन्हें यह समझना जरूरी है कि छात्रों की बेहतरी के लिए क्या आवश्यक है। उन्हें यह भी सुनिश्चित करना है कि विश्वविद्यालय परिसर में कोई अनहोनी घटना न हो, विश्वविद्यालय परिसर में शान्ति का वातावरण बना रहे ताकि पठन-पाठन का कार्य सुचारू रूप से चलता रहे और जिला प्रशासन को कभी भी विश्वविद्यालय परिसर में आने की आवश्यकता न हो। उदाहरणस्वरूप, जब यह कहा गया कि अन्तिम वर्ष के छात्रों को प्रोन्नत न करते हुए उनकी परीक्षा करायी जाये, मैंने यह अपेक्षा की कि छात्र नेता आगे आकर विश्वविद्यालय प्रशासन को अपना सहयोग प्रदान करेंगे ताकि इस संकट की घड़ी में सभी मानकों का पालन करते हुए विश्वविद्यालय इस परीक्षा को भलीभाँति सम्पन्न करा सके। हम सभी जानते हैं कि कोई भी अच्छा छात्र बिना परीक्षा के प्रोन्नत होना नहीं चाहता ताकि उसके अंकपत्र या डिग्री पर किसी प्रकार की आँच आये। हम सभी जानते हैं कि यह कार्य इतना सरल नहीं है परन्तु यह भी कटु सत्य है कि ‘‘जहाँ चाह है वहाँ राह है’’। भूतकाल में हमने अनेकों गम्भीर संकटों को झेला है और मुझे पूरा विश्वास है कि हम सभी इस संकट से भी उबरेंगे। न जाने क्यों छात्र नेताओं को हमेशा ऐसा लगता है कि सिर्फ वे ही छात्र हित के बारे में सोचते हैं? यह हम सभी का दायित्व है कि छात्र सुरक्षित रहें। यदि सबका अपेक्षित सहयोग मिले तो हम सभी मानकों का पालन करते हुए इस परीक्षा को टुकड़ों में जैसे पहले विधि के छात्रों की परीक्षा, फिर प्रोफेशनल पाठ्यक्रमों के छात्रों की परीक्षा इत्यादि अच्छे ढंग से सम्पन्न करा सकते हैं। आज हम सभी जानते हैं कि केवल विश्वविद्यालय के छात्र ही नहीं बल्कि पूरा विश्व एक असमंजस की स्थिति में है। इसे ध्यान में रखते हुए ही विश्वविद्यालय की परीक्षा समिति ने निर्णय लिया कि परीक्षा का निर्धारित समय कम किया जाये, प्रश्नों की संख्या घटाई जाये और यदि किसी छात्र ने किसी परीक्षा में अच्छा नहीं किया तो उसे दुबारा उस प्रश्न पत्र की परीक्षा देने का अवसर प्रदान किया जाये। हम सभी छात्र हित के लिए समर्पित हैं और छात्र हित सर्वोपरि है।
मैं विश्वविद्यालय के सभी शिक्षकों का आभारी हूँ जिन्होंने, जब इस महामारी ने विश्व में अचानक दस्तक दी,  आॅनलाईन मोड से किसी प्रकार जुड़कर बाकी बचे अपने पाठ्यक्रम को पूरा किया। जो शिक्षक आॅनलाईन शिक्षण पद्धति के आलोचक हैं वे इसे डिसकनेक्टेड शिक्षण की संज्ञा देते हैं परन्तु उन्हें भी, जब कोई और विकल्प उपलब्ध न था, इसी आॅनलाईन मोड से पठन-पाठन करना पड़ा। पर क्या कोई मुझे बतायेगा कि आज के दौर में क्लासरूम शिक्षण भी कितना कनेक्टेड रह गया है? हम सभी शिक्षकों को यह देखना है कि छात्र क्लासरूम की तरफ आकर्षित हों और यह तभी सम्भव हो पायेगा जब हम क्लास में सिर्फ बातें न कर कुछ ज्ञानोपार्जन सही ढंग से करें ताकि छात्र क्लासरूम में मानसिक रूप से चैतन्य रहें। हम सभी शिक्षक जानते हैं कि ‘‘फेस-टू-फेस’’ शिक्षण के समय छात्रों के साथ विषय-वस्तु के अलावा भावनात्मक जुड़ाव भी होता है। पर क्या आज के समय में इसकी कोई सम्भावना दिख रही है? जो कहते हैं कि आॅनलाईन शिक्षण नहीं होना चाहिए, उनसे मैं पूछना चाहता हूँ कि यदि इसकी कोई सम्भावना नहीं दिख रही है तो क्या विश्वविद्यालय को बन्द कर दिया जाये? उत्तर है कदापि नहीं। हम सबने देखा कि आॅनलाईन जुड़ाव में खराब बैंडविथ और अन्य कारणों की वजह से जुड़ने में समस्याएँ हैं परन्तु सभी का कुछ समाधान भी है। इन समस्याओं को देखते हुए विश्वविद्यालय ने एक अपना लर्निंग पोर्टल ईजाद किया, जिसके माध्यम से छात्रों को उनके शिक्षकों की पाठ्यसामग्री विभागवार उपलब्ध कराई गयी। इस महामारी ने एक उत्प्रेरक का कार्य किया जिसकी वजह से शिक्षकों ने अनेक आॅनलाईन शिक्षण व्यवस्थाओं को देखा और आज वह इस माध्यम से पढ़ाई करने हेतु पूरी तरह तैयार हैं। विश्वविद्यालय एक वीडियो स्टूडियो की भी स्थापना कर रहा है जहाँ अच्छे लेक्चर रिकार्ड किये जा सकें जिसे न सिर्फ विश्वविद्यालय के पोर्टल पर बल्कि देश के अन्य लर्निंग पोर्टलों पर भी डाला जा सके। इन सभी बातों का ध्यान रखते हुए शिक्षकों से यह निवेदन किया गया कि अगले सत्र की पढ़ाई हेतु वे अपनी पाठ्य सामग्री जुलाई माह के अन्त तक विश्वविद्यालय को उपलब्ध करायें, जिसे इस पोर्टल पर समय से डाला जा सके और 17 अगस्त, 2020 से आॅनलाईन पढ़ाई सुचारू रूप से की जा सके। मैं इसे आॅनलाईन पढ़ाई का एक सकारात्मक पहलू मानता हूँ।
विश्वविद्यालय ने एक एल्यूमुनाई पोर्टल भी बनाया है, जिसे विश्वविद्यालय की मेन वेबसाईट के साथ जोड़ा गया है ताकि पुरा छात्र विश्वविद्यालय के साथ जुड़कर अपने अल्मा मेटर की बेहतरी के लिए महत्वपूर्ण सुझाव प्रदान कर सकें। आज के इस डिजिटल युग में विश्वविद्यालय सभी सामान्य सोशल मीडिया साईट्स जैसे फेसबुक, यूट्यूब और इंस्टाग्राम पर उपलब्ध है। जल्द ही विश्वविद्यालय में एक ‘‘वर्क फ्राम होम’’ व्यवस्था स्थापित होगी, जो विश्वविद्यालय को एक ‘‘पेपरलेस आॅफिस’’ बनायेगी। इसका बीटा वर्जन चलाया जा रहा है और जल्द ही यह व्यवस्था सभी को दिखेगी। आप सभी को यह जानकर अत्यन्त प्रसन्नता होगी कि यह सभी समाधान विश्वविद्यालय के आप जैसे छात्रों के द्वारा ही सम्पन्न हुआ है।
मानव संसाधन विकास मंत्रालय के सहयोग से विश्वविद्यालय में एक ‘‘सेण्टर आॅफ वोकेशनल स्टडीज एण्ड स्किल डेवलपमेंट’’ की स्थापना की गयी है, जो देश को कुशल मानव संसाधन उपलब्ध करायेगा। यह आत्मनिर्भर भारत की तरफ एक छोटा सा कदम है। शुरू में यहाँ तीन पाठ्यक्रम चलाये जा रहे हैं- टेक्निशियन इन एरिया आॅफ नेटवर्किंग एण्ड स्टोरेज, टेक्निशियन इन एरिया आॅफ कम्प्यूटिंग एण्ड पेरीफेरल्स और एक तीन वर्ष का बी0वोक0 इन साफ्टवेयर डेवलपमेंट पाठ्यक्रम।
हम सभी को अपने अधिकारों के अलावा अपने कत्र्तव्यों को भी बखूबी समझना है और एक लक्ष्य निर्धारित कर उस तक पहुँचने का प्रयास करना है। मुझे पूरा विश्वास है कि यदि हम ऐसा करते हैं तो हम न सिर्फ अपने लक्ष्य तक पहुँचेंगे ही बल्कि उससे कहीं आगे जायेंगे।
आज कोई नहीं जानता कि कोरोना महामारी का अन्त कब होगा परन्तु आज सभी जानते हैं कि यह जब भी होगा पोस्ट-कोरोना काल, प्री-कोरोना काल से कहीं भिन्न होगा। हम सभी नये नियमों के तहत कार्य करते दिखेंगे।
आप सभी से निवेदन है कि आप सुरक्षित रहें। यह भी निवेदन है कि आप इस महामारी से कदापि न डरें और सावधानीपूर्वक अपना कार्य करते रहें क्योंकि ‘‘कर्म ही पूजा’’ है। पुनः निवेदन है कि आप भारत सरकार द्वारा समय≤ पर दिये गये सभी सुझावों का यथासम्भव पालन करते रहें और अपने मोबाइल फोन में आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड कर लें ताकि आपको अपने आस-पास के खतरे की जानकारी मिलती रहे।
आप सभी को हमारी ढेरों शुभकामनाएँ।