Advertisement for Teaching and Non-Teaching positions | Admission 2021 | Panel of Counsellors for students | Student feedback form

Jawaharlal Nehru Centre for Differently Abled Students

About

The centre was established on 14 November 2009 during the XIth Five Year Plan (2007-2012); Prof. R. K. Singh (Dean Student Welfare) was instrumental in the establishment of the centre. The centre was inaugurated by the ex-Vice Chancellor of the University Prof. Rajen Harshe. It is located in the Senate house campus of the University at the ground floor of Indira Gandhi Social Science Complex. It works in conformity with the Higher Education for Person with Special Needs (HEPSN) Scheme of UGC.

The Centre is an enabling unit for the physically challenged students of the university. It is equipped with the state of art Multimedia Lab with Digital Technologies and software for these students. At present more than 100 students are enrolled with the centre. Recently on the World Disabled Day (December, 3, 2012) several mobility devices were distributed to the students to facilitate their access to higher education. The first Centre Coordinator was Dr. Sanjeev Kumar H.M.

Academic Activities

Media Report 11 Dec 2019

2017-2018

05 Dec 2018

दिनांक 29 नवंबर 2018 को इलाहाबाद विश्वविद्यालय के नॉर्थ हॉल में "भारत में जाति की समस्या:इतिहास और इतिहास लेखन" विषयक दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का उद्घाटन हुआ। यह गोष्टी आई.सी.सी.आर, आई.सी.एच.आर और समाजिक नयाय एवं अधिकारिता मंत्रालय द्वारा प्रायोजित है।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि इलाहाबाद विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर रतन लाल हांगलू ने कहा कि जाति कैंसर की बीमारी की तरह है जो समाज को खोखला कर रही है और इसलिए इसका उन्मूलन आवश्यक है जिसके लिए सबसे पहले इसका गहन अध्ययन करने की आवश्यकता है ।उन्होंने कहा कि इलाहाबाद विश्वविद्यालय के के मध्यकालीन एवं आधुनिक इतिहास विभाग को जाति के अध्ययन और विश्लेषण के लिए लगातार कई संगोष्ठीयां कराने के साथ शोधपरक पुस्तकें प्रकाशित करनी चाहिए और यह शोध बिना किसी पूर्वाग्रह से ग्रसित होकर करना चाहिए। कार्यक्रम का विषय प्रवेश व्याख्यान देते हुए इतिहास विभाग (जेएनयू ,नई दिल्ली) के प्रोफेसर उमेश अशोक कदम ने इस बात पर बल दिया कि जाति प्रथा को खत्म करने के लिए प्रत्येक व्यक्ति को संकल्प लेना होगा और साहस दिखाना होगा चाहे वह जिस भी जाति के हो। विशिष्ट अतिथि और वर्तमान में उत्तर उच्चतर शिक्षा विभाग आयोग(उ.प्र.) के अध्यक्ष प्रोफेसर ईश्वर शरण विश्वकर्मा ने इस बात पर बल दिया कि भारतीय प्राचीन कालीन परंपरा में जातिवाद को खत्म करने के तत्व मौजूद हैं और हमें उससे परिणाम मिल सकते हैं । केंद्र सरकार की शोध संस्थाएं आईसीएचआर और आईसीपीआर के सदस्य सचिव प्रोफेसर रजनीश शुक्ला ने कहा कि डॉ आंबेडकर ने जिस जाति विहीन प्रबुद्ध भारत का सपना देखा था उसे पूरा करने के लिए वर्तमान केंद्र सरकार कटिबद्ध और इस प्रकार की संगोष्ठी को वित्तीय सहायता देने के लिए सदैव तत्पर है। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे प्रोफ़ेसर योगेश तिवारी(विभागाध्यक्ष ,मध्यकालीन एवं आधुनिक इतिहास विभाग) ने कहा कि जाति राष्ट्र निर्माण और सामाजिक विकास में बहुत बड़ा रोड़ा है और इसका उन्मूलन होना ही चाहिए। कार्यक्रम में सेमिनार की प्रोसीडिंग्स को 4 पुस्तकों के रूप में प्रकाशित किया गया है जिनका का लोकार्पण भी उद्घाटन समारोह में हुआ। कार्यक्रम का संचालन मध्यकालीन इतिहास विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर और दो दिवसीय सेमिनार के आयोजन सचिव डॉ. आलोक प्रसाद ने किया और धन्यवाद ज्ञापन सेमिनार के संयोजक डॉ. विक्रम हरिजन ने प्रस्तुत किया। कार्यक्रम में शुबिया हशमत, परवीन जहां, साक्षी मिश्रा, सोनिका गुप्ता, डॉ ज़ेबा नक्वी, डॉ अंजली यादव, डॉ अनिल यादव, डॉ विजय मधेशिया, डॉ भावेश द्विवेदी, गोविंद मिश्र ,गोविंद निषाद, कुमकुम ,आशीष पाल, गुंजन पाठक ,अर्चना त्रिपाठी, प्रोफेसर आशीष सक्सेना, सरोज, यादव देवेंद्र नाथ गिरी, पंकज चौधरी, ने विशेष तौर पर भाग लिया।


05 Dec 2018

Jawaharlal Nehru Center for Differently Abled Students JNCDAS of University of Alllahabad (A.U) organized a programme at Nirala Art Gallery Sabhagar to celebrate International Day for Person with Disability for 2018. The theme for this programme, as mandated by United Nation, was Empowering the Disabled and Strengthening Equality with Social Inclusion The Chief Guest of function was Vivek Prakash (Chairman, Railway Recruitment Cell, NCR) and Ms. Manisha Goyal (DY.CME, NCR). In the first segment a Debate Competion on ‘National Swach Bharat Mission : Successes and Challenges’ was organized wherein Prof Ashish Saxena (Head , Sociology Deptt) Dr, Sanjay Kumar (Urdu Deptt.) and Dr. Saroj Yadav (Education Deptt.) of A.U judged the participants. Dr. Alok Prasad (Coordinator, JNCDAS) anchored the function while Suman Yadav (Research Scholar, Music Deptt.) presented vote of Thanks. Devendra Gupta(Researcher, Music Department, AU) and his musical group presented ghazals of famous poets and singers. In Debate Competition Aditya Tiwari, Mukesh Vaishya and Pankaj Bhai Patel secured First, Second and Third positions repectively.


15 Oct 2018

जवाहरलाल नेहरू सेंटर फॉर डिफरेंटली एबल्ड स्टूडेंट्स, इलाहाबाद विश्वविद्यालय में आज विश्व सफेद छड़ी दिवस का आयोजन किया गया। सफेद छड़ी दिवस पूरे विश्व में 15 अक्टूबर को दृष्टिबाधित लोगों को सफेद छड़ी द्वारा आत्मनिर्भर,स्वतंत्र और आत्मविश्वासी बनाने के लिए सरल परंतु क्रांतिकारी योगदान के लिये संज्ञान के रूप में मनाया जाता है। वैसे तो छढ़ी दृष्टि बाधित लोगों ने बहुत प्राचीन काल से उपयोग की है परंतु छड़ी पर सफेद रंग लगाने का प्रचलन 1930 के दशक से बढ़ा क्योंकि इस रंग की छड़ी का उपयोग करने वाला के प्रति समाज में संवेदनशीलता तभी से बढी। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि की भूमिका में इलाहाबाद विश्वविद्यालय के मध्यकालीन एवं आधुनिक इतिहास विभाग के विभागाध्यक्ष प्रोफेसर योगेशवर तिवारी ने कहा कि सफेद छड़ी न केवल दृष्टिबाधित लोगों के स्वतंत्रता का प्रतीक है बल्कि समाज की उनके प्रति जिम्मेदारी और संवेदनशीलता को प्रतिबिंबित करती है। उन्होंने कहा कि विकलांगजनों को समाज की सहानुभूति नहीं बल्कि संवेदनशीलता चाहिए। कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि के रूप में डीन स्टूडेंट्स वेलफेयर प्रोफेसर हर्ष कुमार ने कहा कि जिस प्रकार एक छोटी सी छड़ी एक बड़ा परिवर्तन लाती है उसी प्रकार वर्तमान समय में डिजिटल टेक्नोलॉजी के माध्यम से विकलांगता से पैदा होने वाली निशक्तता को खत्म किया जा सकता है।

कार्यक्रम का मुख्य आकर्षण नेहरू सेंटर में लगभग 25 लाख से अधिक के नवीन उपकरणों जैसे स्मार्ट क्लासरूम, ई बुक्स, कंप्यूटर, स्कैनर इत्यादि छात्रों को समर्पित करने हेतु उनका औपचारिक उदघाटन था।

नेहरू सेंटर के समन्वयक प्रोफेसर आलोक प्रसाद ने बताया कि वर्तमान समय में इलाहाबाद विश्वविद्यालय विकलांग छात्रों को सुविधा पहुंचाने में एक अग्रणी स्थान पर है। उन्होंने कहा कि माननीय कुलपति जी ने विशेष तौर पर विकलांग छात्रों को हितों को ध्यान में रखते हुए क्रेट द्वारा डि.फिल के ऐडमिशन में प्रत्येक विभाग में विकलांग छात्रों के लिए एक अतिरिक्त सीट का प्रावधान कर दिया गया है जो किसी अन्य विश्वविद्यालय में नहीं है। उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालय ने सेंटर फॉर डिसेबिलिटी स्टडीज के लिए विस्तृत प्रस्ताव यूजीसी और एमएचआरडी को भेज दिया है और अब शीघ्र ही यह सेंटर प्रारंभ हो जाना चाहिए। इस कार्य में भी कुलपति ने बहुत सराहनीय सक्रियता दिखाई है। कार्यक्रम की अध्यक्षता सेंटर के परामर्शदाता समिति के सदस्य और विधि विभाग के विभागाध्यक्ष प्रोफेसर सिद्धनाथ ने की।

कार्यक्रम में विशेष रूप से अच्युतानंद मिश्रा, देवी प्रसाद गुप्ता, नारायण सिंह, अंजुल कुमार, मुकेश, देवेंद्र गुप्ता, विशाल, अंजली केसरवानी, ओम पांडे, महेश प्रजापति, अनुराधा, हेमा सिंह, पंकज चौधरी चंद्र, भूषण भारती, अवधेश इत्यादि ने सक्रिय रूप से भाग लिया।


June 4, 2015

Celebration of 20 years of PwD Act on June 4, 2015

To what extent has the Person with Disability (PwD) Act, 1995 delivered the goods for the differently-abled in the last two decades? What kind of course correction is required in the trajectory of disability legislation ? Will the new disability bill under consideration in the parliament be a game changer for empowerment of the PwD? These were some of issues discussed in a brainstorming discussion held under the auspices the Jawaharlal Nehru Centre for the Differently Abled Student (JNCDAS) at AU. The discussions were a part of function organized by JNCDAS for celebration of 20 years of PwD Act. As part from the function a camp to distribute tricycles, wheelchairs and crutches free of cost to the students was organized. An innovative aspect of the function was the initiative taken by the JNCDAS to enlist the services of an international organization Dr. Reddy's Foundation (DRF). DRF held an orientation programme to sensitize the students about the various training programmes it conducts for differently-abled youth to build their capacities in soft skills eventually meant to enable them to face competition in the job market. These soft skills include computer skills, English conversation, quantitative test, PR skills etc. Dr Alok Prasad, Coordinator JNCDAS said that a person with a simple higher education degree is considered unsuitable for corporate sector jobs unless he has these simple but vital "soft skills". Thus, these skills bridge the gap between university training and aspirations of recruiters in corporate job market.

Prof. N.R. Farooqi, Vice Chancellor AU, was the Chief Guest while Prof. J. Ansari (DSW) was the Guest of Honour. Prof. Siddhnath of Law Department was the key note speaker while A.R. Siddiqui proposed vote of thanks.

Prof. Farooqi declared that the Academic Council has passed the proposal for establishing a new Department in AU Centre for Disability Studies. This Centre will be one of kinds as it will carry out teaching and research in the pioneering area of "Disability Studies". Prof. Ansari said that a committee to look into various aspects of vocational courses affiliated to Rehabilitation Council of India in the field of rehabilitation of Differently-Abled will be set up soon. He said that principle approval for the upgradation of digital technologies and devices at the JNCDAS has been made by the ICT Cell of A.U. Dr. A.R.Siddiqui said that the JNCDAS can deliver the goods more meaningfully only if the students gave the feed back an even most modest problems faced by the A.U. Mithilesh Kumar, Anirudh Kumar, Ajay Mishra, Devi Singh, Devendra Rajput were among those who activity participated in the functions.


Jawaharlal Nehru Centre for Differently Abled Students celebrated World Braille Day (January 4, 2015)

The Jawaharlal Nehru Centre for Differently Abled Students (JNCDAS) of the University of Allahabad organized an awareness-cum-cultural program for the differently-abled students of the university at the Nirala Art Gallery Sabhagar. The programe was earlier slated to be held on January 4th (World Braille Day) but had to be rescheduled due to unavoidable reasons and was held on 22nd January. Prof. Siddhanath of Law Faculty of the University of Allahabad delivered a special lecture on the Persons with Disability (PwD) Act of 1995. Dr. Alok Prasad (Coordinator, JNCDAS) in his lecture pointed out that a comprehensive review of the PwD Act is in the offing and this amendment aims at establishing a new statutory regime for the welfare and empowerment of the differently abled persons. He added that in its present form the Act only has a provision for the grievance redressal mechanism through the office of the Commissioner for PwDs at central and state level, but fails to address the problem of social, economic, and digital inclusion. He mentioned several initiatives which have been undertaken in the university in the last three years to create an enabling environment for the differently abled students, especially information dissemination through web-page, capacity building workshops, distribution of mobility devices and digital equipment free of cost, career counseling, and prompt grievance redressal mechanism etc. The Chief Guest of the function Prof Jagdamba Singh lauded the role of JNCDAS towards welfare of the students and added the DSW office accords highest priority to the creation and maintenance of the barrier-free environment for PwDs. He said that JNCDAS is an integral part of the welfare driven establishment of DSW office and the Coordinator has acquitted his responsibilities well. The Guest of Honour Prof N R Farooqi (Dean Research and Development) distributed the trophies and certificates to the students who secured first, second, and, third position in a General Knowledge Competition which was held previously on the eve of the World Braille Day (January 4). He said that programmes of such nature should be held more often to sensitize society for the needs and for empathy for the PwDs. He added that Tanmaya Malviya, a blind student of Ancient History Deptt who secured first position in the G.K. level at the P.G. and Research level, could be a source of inspiration to one and all. Dr. A.R. Siddiqui, former DSW and currently a member of the Advisory Board of the JNCDAS, distributed consolation prizes and mementos. Among the persons to receive the mementoes were Amit Singh (Allahabad District PwD Welfare Officer), Shree Narayan Yadav (President, UP Rajya Viklang Kalyan Samiti), and Devendra Gupta (Musician and Alumni of JNCDAS)—people who have made a distinct contribution to the cause of the welfare of PwDs. Devendra Gupta and his musical band added a hearty, nostalgic touch to the programme by its songs, bhajans and ghazals. Dr. Alok Prasad anchored the function and Ajay Mishra presented the vote of thanks.

List of Prize Winners of G.K. Competition held on World Braille Day (January 4th, 2014)

P.G. and Research Level

1st—Tanmay Tatbhav Malviya
2nd—Dinesh Yadav
3rd—Dhanraj kr Yadav

U.G. Level

Ist—Devendra Rajput
2nd—Anjul kumar
3rd—Ravi Kumar Yadav

Consolation Prize

Ajay Kumar Mishra
Pratik Kr Tripathi
Jay Prakash Pande

Published in: Jawaharlal Nehru Centre for Differently Abled Students

Contact

Centre Coordinator

Dr. Alok Prasad
Email: [email protected]
Mobile No.: 91+9415235342


Published in: Jawaharlal Nehru Centre for Differently Abled Students

Facilities
  1. In each year assistive devices like tricycle, wheelchair, stick, crutches, calipers etc have been distributed free of cost to the Differently Abled Students of the University. For example, in December 2012 more than 40 students received these devices worth about 2 lakh rupees free of cost.
  2. Workshops for the visually challenged students for enabling them use of digital devices such as computer and scanner and internet have been conducted.
  3. The centre has special softwares like Jaws and Kurzweill which help in digital inclusion of the visually challenged students.
  4. Text books of various subjects were converted to audible format and digital E- learning material was requisitioned from other resource centers for the use of Differently Abled Students. This was done in Earn While You Learn Mode which helped provide financial support for the differently-abled students for their services.
  5. More than 300 differently abled students have made use of the digital lab of the Centre for strengthening their learning process in the last 3 years.
  6. World Disability Day has been celebrated each year by organizing awareness camps for the needs of the Differently Abled Students in the University.
  7. A Synergy with the Allahabad district differently-abled persons welfare office has been built and the student have regularly taken part in their awareness camps.
  8. The grievances of the differently abled students have been addressed promptly.
  9. The superintendent of the special hostel for the visually challenged students run by the State Government has responded positively to our needs and has promised to accommodate our students in the hostel.

Published in: Jawaharlal Nehru Centre for Differently Abled Students

Notice
09 Dec 2019
उप निदेशक, सेंटर फॉर डिफरेंटली एबल्ड स्टूडेंट्स
कल दिनांक 10 दिसंबर 2019 को अंतर्राष्ट्रीय दिव्यांग जन दिवस के उपलक्ष में जवानों सेंटर फॉर डिफरेंटली एबल्ड स्टूडेंट्स के तत्वाधान में इलाहाबाद विश्वविद्यालय के निराला आर्ट गैलरी सभागार में सुबह 9:30 बजे से एक कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा ।इस कार्यक्रम के पहले भाग में "भारत की सबसे गंभीर समस्या और उसका समाधान" विषयक वाद- विवाद प्रतियोगिता आयोजित होगी और उसके पश्चात दूसरे भाग में पुरस्कार वितरण और सांस्कृतिक कार्यक्रम किए जाएंगे । वाद विवाद प्रतियोगिता में प्रयागराज स्थित उच्च शैक्षणिक संस्थानों के दिव्यांग छात्र-छात्राएं भाग ले सकते हैं। प्रतियोगिता में भाग लेने वाले प्रतिभागी अपने पहचान पत्र और सत्र 2019 - 20  की फीस रसीद की मूल प्रति जरूर लाएं।

उप निदेशक, दिव्यागंजन सशक्तीकरण विभाग, प्रयागराजः
उ0प्र0 शासन के दिव्यांगजन सशक्तीकरण विभाग द्वारा संचलित उच्च शिक्षा में अध्ययनरत संस्थागत छात्रों हेतु दृष्टिबाधित एवं अस्थिबाधित दिव्यांगजनों को आवासीय सुविधा हेतु राजकीय दृष्टिबाधित छात्रावास, सी0पी0आई0 कैम्पस स्वरूपरानी चिकित्सालय के पास प्रयागराज उ0प्र0 में प्रवेश हेतु 15 जून 2019 से 30 सितम्बर 2019 तक आवेदन पत्र आमंत्रित किये जाते है। प्रवेश आवेदन पत्र निःशुल्क किसी भी कार्यालय कार्य दिवस में उपरोक्त विधा के दिव्यांगजनों द्वारा दिव्यांग प्रमाण पत्र, शैक्षिक संस्थान की प्रवेश शुल्क रसीद की छायाप्रति उपलब्ध कराने पर निःशुल्क आवेदन पत्र प्राप्त किया जा सकता हैं। प्रवेश छात्रों को मेरिट एवं उनकी दिव्यांगता की प्रतिशत के आधार पर दिया जायेगा। यह प्रवेश एक शैक्षिक सत्र अथवा आगामी 30 जून 2020 तक के लिये किया जायेगा। प्रवेश के समय दिव्यांग प्रमाणपत्र , आय प्रमाणपत्र, जिस संस्था में अध्ययनरत है वहां की फीस रसीद की छायाप्रति तथा तीन फोटो, राजकीय चिकित्सालय का स्वस्थता प्रमाण पत्र एवं जिस संस्था में छात्र संस्थागत रूप से अध्ययनरत है वहां के संस्थाध्यक्ष अथवा सक्षम प्राधिकारी की संस्तुति आवश्यक है। छात्रों को प्रत्येक माह निर्धारित शुल्क एवं छात्रावास के मेस का शुल्क माह की प्रथम तिथि को जमा करना अनिवार्य होगा। छात्रावास के शुल्क आदि का विवरण निम्न है।
1.         प्रवेश शुल्क- एक बार  रू0 200/- अनु0जाति/जनजाति
                              एक बार रू0 300/- अन्य वर्ग/श्रेणी के लिए
2.         काशन मनी   एक बार रू0 200/- सभी श्रेणी के लिए
3.         कक्ष का किराया प्रतिमाह रू0 50/- सभी श्रेणी के लिए
4.         विद्युत व्यय   प्रतिमाह  रू0 50/- सभी श्रेणी के लिए
5.         भोजन व्यवस्था- सभी छात्रो को छात्रावास में भोजन करना अनिवार्य होगा। भोजन छात्रों की मेस समिति एवं अनुबंधित कान्टेक्टर द्वारा उपलब्ध कराया जायेगा। कान्टेक्टर द्वारा निर्धारित डाइट प्रति माह की दर से की धनराशि का छात्र द्वारा व्यय/वाहन करना होगा। छात्रावास के अन्य नियमों की जानकारी कार्यालय कार्य दिवस में छात्रावास से प्राप्त की जा सकती है।
संस्थागत रूप से उपरोक्त विधा में जो भी उच्च शिक्षा में अध्ययनरत दृष्टिबाधित, श्रवणबाधित एवं अस्थिबाधित छात्र प्रवेश हेतु इच्छुक हो, वह अपना पंजीकरण आवश्यक अभिलेख के साथ कार्यालय कार्य दिवस में प्रातः 10 बजे से 2 बजे तक उपस्थित होकर  करा सकतें है।

19 July 2019
Coordinator, Jawaharlal Nehru Center for Differently Abled Students (JNCDAS), AU
A workshop on ‘ Use of Digital Technology for Empowerment of the Differently- Abled Students’ was organized  by the Jawaharlal Nehru Center for Differently Abled Students (JNCDAS). The resource-person of the workshop was Professor Sanjeev Kumar H.M. who is currently a professor with the Department of Political Science (University of Delhi) and the former Coordinator of JNCDAS. The workshop was essentially targeted on the visually challenged students of A U. Significantly, Prof Sanjeev lost his vision in the childhood, but he did not allow this disability to scale great heights in the public and academic life.  
In the first session of the workshop Prof. Sanjeev broached the discussion by giving a call to the visually challenged students to become self-reliant.
He told them that there will be situations in life where the differently-abled person face a difficulty. But instead of drifting into depression they should take  up such difficult situations as a challenge . Thus, to become independent in life should not be left to fortune; rather it is a decision. In the second session he gave a hands-on training to  visually-challenged students about use of the different softwares in order to get access to internet and e- resources . He especially mentioned that NonVisual Desktop Access (NVDA) which is a free, open-source, portable screen reader for Microsoft Windows that can be used by the visually challenged to get access to the e- resources.
Prof. Alok Prasad (Coordinator, JNCDAS) conducted the workshop while Mr. Anjul Kumar Ph.D research scholar of AU delivered the vote of thanks.
आज इलाहाबाद विश्वविद्यालय के जवाहरलाल नेहरू सेंटर फॉर डिफरेंटली एबल्ड स्टूडेंट्स में दृष्टिबाधित छात्रों के लिए एक कार्यशाला आयोजित की गई। इस कार्यशाला में विषय वस्तु था "डिजिटल टेक्नोलॉजी का निशक्तजनों के सशक्तिकरण में स्थान"। इस कार्यशाला के मुख्य वक्ता थे दिल्ली विश्वविद्यालय के राजनीतिशास्त्र विभाग के प्रोफेसर और नेहरू सेंटर (इलाहाबाद विश्वविद्यालय )के पूर्व संयोजक प्रोफेसर संजीव कुमार एच. एम.। कार्यशाला के पहले सत्र में प्रो. संजीव ने इस पर बात पर बल दिया कि निशक्तजनों के लिए आत्मनिर्भर बनना एक ऐसा निर्णय है जिसे भाग्य पर नहीं छोड़ा जा सकता है। कार्यशाला के दूसरे सत्र में उन्होंने विश्वविद्यालय के दृष्टिबाधित छात्रों को उपयोगी सॉफ्टवेयरों के बारे में जानकारी दी। उन्होंने विशेषकर के नॉल विजुअल डेस्कटॉप एक्सेस नाम के निशुल्क सॉफ्टवेयर के बारे में बताया जिसके माध्यम से दृष्टिबाधित छात्र कंप्यूटर और लैपटॉप का उपयोग सरलता से कर सकते। यह सॉफ्टवेयर सरलता से इंटरनेट से डाउनलोड किया जा सकता है। कार्यशाला का संचालन नेहरू सेंटर के वर्तमान संयोजक प्रो. आलोक प्रसाद ने किया और धन्यवाद ज्ञापन शोध छात्र   अंजुल कुमार ने प्रस्तुत किया। कार्यशाला में विशेष रूप से अच्युतानंद मिश्रा, नारायण सिंह, अंजल कुमार, सैफ खान, भरत, धर्मेंद्र इत्यादि उपस्थित थे।  

20 Sept 2018
 Coordinator, Jawaharlal Nehru Center for Differently abled Students, AU:  
सत्र 2018- 19 के लिए इलाहाबाद विश्वविद्यालय के नियमित तथा वैध दिव्यांग छात्रों को ट्राई साइकिल, कैलिपर तथा अन्य सहायक यंत्र उपलब्ध कराए जाने हैं। इस क्रम में इच्छुक दिव्यांग छात्रों से अनुरोध है कि वह अपनी आवश्यकताओं के अनुसार जो भी उपकरण चाहते हैं उसके लिए समन्वयक, जवाहरलाल नेहरू सेंटर फॉर डिफरेंट ऐबेल्ड स्टूडेंट इलाहाबाद विश्वविद्यालय को अपना आवेदन पत्र 25-09-2018 तक अवश्य दे दें । इससे संबंधित अधिक जानकारी के लिए 979523437 पर संपर्क करें।"

05 September 2018
Coordinator, Jawaharlal Nehru Center For Differently Abled Students :AU:
  '' Appications Invited for Krishna Kumari Verma Memorial Award 2018
As per the information received from All India Confederation of the Blind, Krishna Kumari Verma Memorial Award 2018 for 1st / 2nd Position holder blind students in Master's Degree is given to those blind students who secure the first or second position in their post-graduate examinations (except music and fine arts) in order of merit in any university recognized by the U.G.C. The blind students will be required to compete with all students appearing in their subject in any particular year. The term ''Blind'' would mean as defined by the Government of India and the applicant shall by required to send certificate of blindness issued by an Ophthalmologist along with his/her application latest by 31st October, 2018 in the prescribed Application Form. The Award will consist of Rs. 21,000.00 (Rupees Twenty One Thousand Only), a certificate, a citation and a memento. Selected candidate along with his/her escort shall be provided to and fro AC 2 tier railway fare on concessional rates and hotel accommodation at the time of Award ceremony on 4th January, 2019. Those visually challenged students who wish to apply for this award are required to contact Coordinator, Jawaharlal Nehru Center For Differently Abled Students(near Proctor Office) latest by 20 September 2018'' (contact no. 9795234137)

30 Nov 2017
Co-ordinator, Jawaharlal Nehru Centre, AU:
In the run-up to the International Day for persons with Disability (IDPD) celebrations scheduled to be organized on December 3, 2017 the Jawaharlal Nehru Centre for Differently Abled Students conducted a G.K. Competition for the Differently Abled Students today. There was an enthusiastic participation by the students in this event. On December 1, 2017 an essay and a debate competition will be organized at the centre at 11:00am the topic of the essay competition is Empowerment of the Differently Abled Persons PAST, Present and Future the winners of G.K. Essay and Debate Competition will be given Prizes and Certificates on December, 4, 2017 at 2:00pm.

अन्र्तराष्ट्रीय विकलांगता दिवस 3दिसम्बर की पूर्वसंध्या पर जवाहरलाल नेहरू सेन्टर फार दि डिफरेटंली एबल्ड स्टूडेंटस इलाहाबाद विश्वविद्यालय कई कार्यक्रम करवायेगा इसी क्रम में आज सेंटर मेें सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता का आयोजन किया गया । प्रतियोगिता में प्रतिभागियो ने पूरे उत्साह के साथ भाग लिया। कल दिनांक 01.12.2017 को विभाग मे निंबध तथा वाद विवाद प्रतियोगता भी आयोजित की जायेगी निबन्ध प्रतियोगिता का विषय विकलांगजनों के सशक्तिकरण अतीत वर्तमान एवं भविष्य है। प्रतियोगिताओं में प्रथम, द्वितीय, तृतीय स्थान पाने वाले छात्रों को दिनांक 04.12.2017 अपरान्ह 2ः00 बजे माननीय कुलपति जी द्वारा पुरस्कृत किया जायेगा।


Co-ordinator, Jawaharlal Nehru Centre For Differently Abled student, AU:

The physically Challenged (PH) STUDENTS OF University of Allahabad who desire to get admission to the state Government PH Hostel (near S.R.N Hospital) should get their application form the superintendent of the hostel and submit it there after getting the form forwarded from D.S.W. office. The last date of submission of the application form is 30 September 2017.

  • ड0 प्र0 शासन के विकलांग जनविकास विभाग द्वारा संचालित उच्च शिक्षा में अध्ययनरत संस्थागत छात्र हेतु दृष्टिबाधित, श्रवणबाधित एवं अस्थिबाधित विकलांगजनों आवासीय सुविधा हेतु राजकीय दृष्टिबाधित छात्रावास, सी0पी0आई0 कैम्पस, स्वरूपरानी चिकित्सालय के पास, इलाहाबाद (उ0प्र0) में प्रवेश हेतु 15 जून 2017 से 30 सितम्वर 2017 तक आवेदन पत्र आमंत्रित किये जाते हैं। प्रवेश आवेदन पत्र निःशुल्क किसी भी कार्यालय कार्य दिवस में उपरोक्त विधा के विकलांगो द्वारा विकलांग प्रमाण पत्र, शैक्षिक संस्थान की प्रवेश शुल्क रसीद की छायाप्रति उपलब्ध करानें पर निःशुल्क आवेदन पत्र प्राप्त किया जा सकता है। प्रवेश छात्रों को मेरिट एवं उनकी विकलांगता की प्रतिशत के आधार पर दिया जायेगा। यह प्रवेश एक शैक्षिक सत्र अथवा आगामी 30 जून 2018 तक के लिये किया जायेगा। प्रवेश के समय किलांग प्रमाणपत्र, आय प्रमाणपत्र, जिस संस्था में अध्ययनरत है वहां की फीस  रसीद की छायाप्रति तथा तीन फोटो, राजकीय चिकित्सालय का स्वस्थता प्रमाण पत्र एवं जिस संस्था में छात्र संस्थागत रूप् से अध्ययनरत हैं वहां के संस्थाध्यक्ष अथवा समक्ष प्राधिकारी की संस्तुति आवश्यक है। छात्रों को प्रत्येक माह निर्धारित शुल्क एवं छात्रावास के मेस का शुल्क माह की प्रथम तिथि को जमा करना अनिवार्य होगा। छात्रावास के शुल्क आदि का विवरण निम्न है।

  1. प्रवेश शुल्क (एक बार) रु0 200.00 अनु0जाति/जनजाति, रु0 300.00 अन्य गर्व/श्रेणी के लिए

  2. काशन मनी (एक बार) रु0 200.00 सभी श्रेणी के लिए

  3. कक्ष का किराया (प्रतिमाह) रु0 50.00 सभी श्रेणी के लिए

  4. विद्युत व्यय (प्रतिमाह) रु0 50.00 सभी श्रेणी के लिए

  • भोजन व्यवस्था सभी छात्रों को छात्रावास में भोजन करना अनिवार्य होगा। भोजन छात्रों की मेस समिति एवं अनुबंधित कान्टेक्टर द्वारा उपलब्ध कराया जायेगा। कान्टेक्टर द्वारा निर्धारित डाइट (प्रति माह की दर से) की धनराशि का छात्र द्वारा व्यय/वहन करना होगा। छात्रावास के अन्य नियमों की जानकारी कार्यालय कार्य दिवस में छात्रावास के प्राप्त की जा सकती है।

  • संस्थागत रूप से उपरोक्त विधा में जो भी उच्च शिक्षा में अध्ययनरत दृष्टिबाधित, श्रवणवाधित एवं अस्थिवाधित छात्र प्रवेश हेतु इच्छुक हो, वह अपना पंजीकरण आवश्यक अभिलेख के साथ कार्यालय कार्य दिवस में प्रातरु 10 बजे से 2 बजे तक उपस्थित होकर करा सकते हैं। 


December 03, 2015

Coordinator, Jawaharlal Nehru Centre for Differently Abled Students, AU-

A function to celebrate International Day for the persons with Disabilities ( IDPD) was organized by Jawaharlal Nehru Centre for Differently Abled Students ( JNCDAS) of University of Allahabad (AU) on December 3, 2015. The theme of this year's IDPD under the UN mandate was "Inclusion Matters: Access and Empowerment of all persons of all abilities" Prof. A Satyanarayan, Vice Chancellor ( AU) was the chief guest while Prof. A.R. Siddiqui (DSW) was the guest of Honour of the function. It was presided over by Prof. Siddhnath and conducted by the Coordinator JNCDAS Dr Alok Prasad.

In the run up to the function an Essay writing competition on the topic "Relevance and Reforms in Student union in Indian Universities" was organized in Student union in Indian Universities" was organized on 1 December, 2015. Anjul Kumar Srivastava, (B.A. III student) who is fully visually challenged was adjudged as the best essay writer while Alok Kumar and Raj kumar secured second position and third position respectively.

Prof. A. Satayanarayan, who is an eminent sociologist, expressed his concern about the growing "digital divide" and emphasized that technology can be an enabling and empowering instrument to give access to learning resources for the differently abled. He said the proposal for an advance studies centre in the field of Disability Studies will be considered and ratified by the next Academic council. He distributed prizes to the winners of the essay and the debate competition which were organized for the differently abled students of the university in the run up to the IDPD function.The topic of the debate "The Social Networking sites are the boon for the Differently Abled Persons" Anjul Srivastava, Ram Kumar Yadav and Tanmay Malviya secured First, Second and Third position respectively in the debate competition. >

Prof. Chanda, Prof Ashish Saxena, Dr. Saroj Yadav, Dr. Vikram, Sujit, Manoj Tiwari, Aniruddh Kumar and Sandeep Kr. Gaurav also participated in the function.

आज दिनांक 03.12.2015 को इलाहाबाद विश्वविद्यालय के जवाहरलाल नेहरू सेन्टर फार दि डिफरेंटली एबल्ड स्टूडेंन्टस के तत्वाधान में अंर्तराष्ट्रीय विकलांगता दिवस के उपलक्ष्य में कई कार्यक्रम आयोजित किये गये। सर्वप्रथम निबंध प्रतियोगिता आयोजित की गयी जिसका विषय था इलाहाबाद विश्वविद्यालय में छात्र संघ की प्रासंगिकता तथा सुधार। इसके पश्चात स्टीफन हाकिन्स पर बनी फिल्म ष्द थ्योरी आफ इवरीथिंगष् का प्रर्दशन किया गया। इस कार्यक्रम के तीसरे भाग में वादविवाद प्रतियोगिता आयोजित की गयी जिसका विषय था ष्क्या सोशल नेटवर्किंग साईटस का समाज पर नकारात्मक प्रभाव पड़ रहा हैष्। कार्यक्रम के अंतिम भाग में विधि के प्रोफेसर सिद्धनाथ ने व्याख्यान दिया।

नेहरू सेन्टर द्वारा आयोजित कार्यक्रम का मुख्य विषय वस्तु संयुक्त राष्ट्र की अभिप्रेरणा के अन्तर्गत ष्सबका समावेश आवश्यक हैरू सभी सक्तता के लोगो के सशक्तिकरण तथा सब को सुगम्यताष् था। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 सत्य नारायण ने विभिन्न प्रतियोगिताओं में उच्च स्थान प्राप्त विकलांग छात्रों को पुरस्कार दिये। उन्होने कहा कि निशक्तता जन्म से नही होती बल्कि समाज परिभाषित करता है और उसका उपाय भी समाज के गर्भ से निकलता है। कार्यक्रम के विभिन्न अतिथि डा0 ए0आर सिददकीए अधिष्ठाता कल्याण ने कहा कि आधुनिक सूचना प्रौद्योगिकी ने निशक्तजनो को सशक्तिकरण का एक अनोखा मौका दिया है और इसे किसी भी सूरत में गवाया नही जा सकता।

कार्यक्रम में प्रो0 चन्दा देवीए डा0 आशीष सक्सेनाए डा0 सरोज यादव तथा डा0 विक्रम ने भी अपने विचार रखे। इनके अतिरिक्त अनिरूद्ध सिंहए सन्दीप गौरवए मनोज तिवारीए सुजीत कुमारए अजय मिश्रा इत्यादि ने सक्रिय योगदान दिया।

वाद विवाद प्रतियोगिता में अन्जुल श्रीवास्तवए रामकुमार यादव और तनमय मालवीय ने क्रमशः प्रथम द्वितीय व तृतीय स्थान प्राप्त किया निबंध लेखन प्रतियोगिता में अन्जुल श्रीवास्तवए आलोक मिश्रा और राजकुमार ने क्रमशः प्रथम द्वितीय व तृतीय स्थान प्राप्त किया।

कार्यक्रम का संचालन सेन्टर के निदेशक डा0 आलोक प्रसाद ने किया। इस मौके पर उन्होने सूचित किया कि सेन्टर के नवीनीकरण के लिये प्रक्रिया पूरी कर ली गयी है और शीघ्र ही सेन्टर में दृष्टिबाधित बच्चो के लिये हिन्दी में ऐसे साफ्टवेयर उपलब्ध हो जायेगें जिनसे वे इंटरनेट का उपयोग कर सकते है। उन्होने बताया कि सेन्टर के एक छात्र मनोज कुमार पाण्डेय जो दोनो हाथो से निशक्त है ने अपनी अथक परिश्रम से आई0ए0एस0 कि परीक्षा में 305वां स्थान प्राप्त कर सफलता प्राप्त की। शीघ्र ही नवीन एकेडमिक बिल्डिंग में कक्षायें प्रारम्भ हो जायेगी जिससे विकलांग छात्रों को लाभ मिलेगा क्योकि यह बिल्डिंग विकलांगजनो के लिये पूर्णतः सुगम है। उन्होने एक अन्य उपलब्धि यह बतायी कि अब विश्वविद्यालय में विकलांगजनो के प्रवेश में आरक्षण को लागू करने मे विसंगतिया दूर कर ली है। उन्होने राज्य सरकार को विकलांग छात्रों के लिये एक अलग छात्रावास उपलब्ध कराने के लिये अपना आभार प्रकट किया।


December 02, 2015

Coordinator, Jawaharlal Nehru Centre for Differently Abled Students, AU-

A function to celebrate International Day for Persons with Disabilities will be organized at our centre from 1:00 p.m. to 2:30 p.m. on 03 December, 2015. The theme of this years International Day for Persons with Disabilities as mandated by the UN, is “Inclusion Matters: Access and Empowerment of all persons withal abilities”. The Hon’ble Vice-Chancellor of the University Prof. A Satyanarayan has given his kind consent to grace the function as its Chief Guest. An important component of the function is prize distribution to the differently-Abled students for their excellence in Essay and Debate competitions. These events are being organized as a part of celebration of International Day for Persons with Disabilities. Prof. Siddhanath of law Department shall be the keynote speaker of the function.

कल दिनांक 3 दिसम्बर, 2015 को अपरान्ह 1:00 बजे से 2:30 बजे तक हमारे केन्द्र में विश्व विकलांगता दिवस के उपलक्ष्य में एक कार्यक्रम आयोजित किया जायेगा। इस कार्यक्रम का विषय संयुक्त राष्ट्र संघ के अभिप्रेरणा के अन्तर्गत ष्समावेश महत्वपूर्ण हैः सब का सशक्तीकरण और सबके लिये सुगमताष् है। माननीय कुलपति महोदय प्रो0 ए0 सत्यनारायण इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि हैं और उन्हीं के कर कमलों से मेधावी तथा उत्कृष्टि उपलब्धि प्राप्त विकलांग छात्रों को पुरस्कार प्रदान किये जायेंगे। इस कार्यक्रम के अन्तर्गत निबन्ध तथा वाद.विवाद प्रतियोगिता भी आयोजित की जायेगी। कार्यक्रम के मुख्य वक्ता विधि विभाग के प्रो0 सिद्धनाथ होगें।